Chairman’s Message

राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त महाविद्यालय को साहित्य रत्नगर्भा भूमि में उच्च शिक्षा की प्रथम ज्योति प्रज्वलित करने का गौरव प्राप्त है , गत वर्षों की भांति हम नए आयामों एवं संकल्पों के साथ नवीन सत्र में प्रवेश कर रहे हैं | हमें ख़ुशी है कि जिन उददेश्यों के साथ हमने इस महाविद्यालय कि नीव रखी थी उसे आप सभी के सहयोग से पूर्ण करने में हम समर्थ हो सके ! सम्पूर्ण बुन्देलखण्ड में हम इस महाविद्यालय को एक उत्कृष्ट शैक्षिक संस्थान के रूप में प्रस्तुत करने में सफल रहे यही हमारे आत्मविश्वास एवं द्रढ़ संकल्प का प्रमाण है |

हमने अपने पाठ्यक्रमों में कुछ क्रियात्मक शैली का समावेश किया है, ताकि हर वर्ग के छात्र / छात्राएं अपनी बौद्धिक क्षमता को पूर्ण विकसित कर सके , महाविद्यालय का परम लक्ष्य युवाशक्ति को सवाल-सक्षम  बनाकर उन्हें राष्ट्रनिर्माण के कार्य में उन्मुख करना है , इसी परिपैक्ष्य में आगामी सत्र से महाविद्यालय में नवीन शैक्षिक पाठ्यक्रमों जैसे – बी0 फार्मा , डी0 फार्मा , एल०एल०बी०  इत्यादि का प्रारंभ होना भी प्रस्तावित है |

हमारे इन प्रयासों में आप सभी क्षेत्रवासिओं नें जो संरक्षण एवं सहयोग प्रदान किया है उसके लिए मैं ह्रदय से अपनी कृतज्ञता व्यक्त करता हूँ |

 शुभकामनाओं सहित ! 

                                                                                                                                           डॉ० वैभव गुप्ता

संस्थापक /प्रबन्धक